जीवन की हकीकत……,

दोस्तो हम कुछ वाक्या लेते है जिंदगी की हक़ीक़त को समझने के लिये …… .पहला वाक्या……   एक गिलहरी रोज अपने काम पर समय से आती थी और अपना काम पूरी मेहनत और ईमानदारी से करती थी ।गिलहरी जरुरत से ज्यादा काम कर के भी खूब खुश थीl क्योंकि उसके मालिक, जंगल के राजा शेर…

सच्चा सुख खोजन चला …..

सच्चा सुख खोजन चला ….. हर इंसान सुख की खोज मे जगह जगह भटकता रहता है संसार की कोई भी वस्तु सुख नही दे सकती ,कोई भौतिक वस्तुओं से ,तो कोई सम्बन्धो से सुख की अभिलाषा करता हैं उसे सुख मिलता है लेकिन थोड़े समय के लिये ,और फिर उसे लगता है यह सुख सच्चा…

दयालुता – जिंदगी की किताब (पन्ना # 17)

दयालुता(kindness)…. इंसान जितना दयालु होगा उतना ही महान होगा । हमें हर व्यक्ति ,जीवों के प्रति दयालुता का भाव रखना चाहिये । सज्जन लोग सदैव दया करनेवाले और करुणाशील होते हैं ।दया के छोटे छोटे काम,प्रेम से बोला गया छोटा शब्द किसी भी इंसान को बहुत शकुन देता हैं। दानशीलता ह्रदय से पनपती हैं….हमें इंसान…

भक्त की भक्ति -जिंदगी की किताब (पन्ना # 16)

भक्त की भक्ति …..कहानी के साथ… भक्तिभाव का आधार प्रेम,श्रद्धा और समर्पण हैं ।सच्ची भक्ति से भगवान भी भक्त के वश मे हो जाते है ।यदि भक्ति शरीर के किसी भी अंगों से होती तो विकलांग कभी नही कर पाते । बोलने सुनने में होती तो गूँगे बहरे कभी नही कर पाते। धन और ताक़त…

भक्ति और ज्ञान…..

भक्ति और ज्ञान…… आत्मज्ञान यानि आत्मा का अनुभव। यह ज्ञान हमें कोटि कोटि जन्मों के पुण्यों के उदय के फलस्वरूप मिलता हैं ।आत्मज्ञान कहीं बाहर बैठा हुआ नहीं है जिसे जाकर पाया जा सके। वह हमारे भीतर ही लबालब भरा पड़ा हैं ।जो सदा हर वस्तु का केवल अच्छा पक्ष देखते हैं वे ही आत्मज्ञान…

पॉजीटिव सोच और नेगेटिव सोच…..

पॉजीटिव सोच और नेगेटिव सोच….. प्रत्येक मनुष्य मे सकारात्मक एवं नकारात्मक विचार चलते रहते हैं । इनमे से किसी एक के पोषण से दूसरा कमजोर हो जाता है । सकारात्मक सोच व्यक्तियो की वास्तविक प्रतिभा को उभारकर उन्हे असंभव से संभव करने मे सहायक होती है जबकि नकारात्मक सोच व्यक्ति में हीन भावना का भाव…

गुस्से के कुछ क्षण -जिंदगी की किताब (पन्ना # 13)

गुस्से के कुछ क्षण….. लोगों को गुस्सा क्यों आता है, इसकी कई वजह होती हैं , वजह चाहे जो भी हो, गुस्सा दिलाने पर लोग खुद को काबू में नहीं रख पाते और भड़क उठते हैं।कई बातें एक इंसान को गुस्सा दिला सकती हैं, जैसे जब उसके साथ नाइंसाफी होती है या उसकी सबके सामने…

करो अन्न देवता का आदर …पेट की भूख क्या होती हैं ?-जिंदगी की किताब (पन्ना # 12)

करो अन्न देवता का आदर …..पेट की भूख क्या होती हैं ? भूख क्या होती है वह किसी भी भूखे व्यक्ति के पास जाकर पूछो ।भूखा पेट इंसान को क्या क्या करा सकता है ऐसे कई अनुभव मैने अपनी जिंदगी मे देखे हैं । भूख से कई दृष्टांत याद आते है । पहला दृष्टांत मुझे…

कितना सुंदर है मन का संसार ……

कितना सुंदर है मन का संसार …… ईश्वर को करूँ धन्यवाद या करूँ शुक्रिया आज , जिसने बनाया ये , मन का कितना सुंदर संसार । वास्तविकता के धरातल पर   मैं बहुत खुश हूँ आज जितनी चादर थी  उतना ही पॉव फैलाया आज इसलिये बहुत खुश हुँ मै आज इच्छाओं को कम करके  तृप्ति की…

वृद्धावस्था vs युवा पीढ़ी …..विचार दोनो की नजर मे -जिंदगी की किताब (पन्ना # 11)

वृद्धावस्था vs युवा पीढ़ी …..विचार दोनो की नजर में वर्तमान में वृद्धों के कष्टों को देखकर मन में हमेशा ही प्रश्न बना रहता है कि बुढापा एक अभिशाप है या वरदान?   हमारे समाज में अधिकांश लोग अपने वृद्धों को भले ही बोझ समझता है लेकिन फिर भी वे अपने उम्र के इस पड़ाव में…

क्रोध (गुस्सा)-जिंदगी की किताब (पन्ना # 10)

क्रोध (गुस्सा)…. क्रोध इंसान को इतना अंधा कर देती हैं उसे अच्छे या बुरे का भान नही रहता हैं….आगे कहानी,कविता ओर विवरण के साथ पढिये…. क्रोध एक बुरी आदत हैं जिसे मनुष्य दिल से लगाये घूमता हैं यह मनुष्य के वास्तविक अस्तित्व को समाप्त कर देता हैं । आज के समय में क्रोध एक फैशन…

प्रेम -सुखद अहसास-जिंदगी की किताब (पन्ना # 9)

प्रेम -सुखद अहसास ….. प्रेम एक अहसास है जो किसी की दया, भावना और स्नेह जताने का तरीका है। खुद के प्रति, या किसी जानवर के प्रति, या किसी इनसान के प्रति ,किसी के भी प्रति स्नेहपूर्वक कार्य करने को प्यार या प्रेम कह सकते हैं। प्रेम चेतन की एक अवस्था हैं । मनुष्य-जीवन का…